News

हरी शाक सब्जियां कैसे खाएँ : अंकित पोगुला द्वारा पोषण पर वर्कशॉप

August 22, 2013 • Posted in: News, Workshops

Nutrtion workshop with Ankit Pogula and Pulkita PArsai (1)

एक जैविक उद्यान बनाने और चलाने के साथ, हमने फैसला किया की यह छात्रों को पोषण का परिचय देने का समय था। हमारे तेजी से चलते जीवन और जीवन शैली में परिवर्तन के साथ, पौष्टिक खाद्य पदार्थ धीरे धीरे लुप्त होते जा रहे हैं।

Students classifying the activities of the body according to their nature.

Students classifying the activities of the body according to their nature.

Students reading out their groups classification of our bodily activities.

Students reading out their groups classification of our bodily activities.

श्री अंकित पोगुला, हमारे जैविक विशेषज्ञ ,ने स्वस्थ रहने और अच्छी तरह से खाने के पूरे अभ्यास को सरल कर दिया। हमारे शरीर की चाहत को हमारे मन के द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। इसलिए, हमारा फैसला है कि एक पैकेट बिस्किट की जगह फल खाया जाए – एक ऐसी अवधारण जो तुरंत छात्रों को भा गई। उन्होंने पोषण पर सुझाव प्राप्त किया और उन्हें यह एहसास हुआ कि स्वस्थ रहना उतना भी मुश्किल नहीं है! मौसमी खाद्य पदार्थों का सेवन और एक संतुलित भोजन फिट और ठीक रहने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

A body web made by the students where each of them represent an organ of the body.

A body web made by the students where each of them represent an organ of the body.

Ankit having a laugh with the 'choti aant', a student from Teliya Middle School.

Ankit having a laugh with the ‘choti aant’, a student from Teliya Middle School.

वर्कशॉप का समापन शारीरिक तंतु के साथ हुआ जहाँ हर छात्र को शरीर का एक हिस्सा बनना था। हमारे शरीर के सभी अंग जुड़े हुए हैं – जिनका एक दुसरे पर प्रभाव पड़ता है। इसलिए, समग्रता में स्वास्थ्य और पोषण का ख्याल रखना ज़रूरी है जो आमतौर पर अलगाव में ख़ारिज होता है जैसे तब जबकि हमें पेट दर्द या ऐसी कोई परेशानी हो!

To drive home the fact that our illnesses cannot be viewed in isolation, Ankit Pogula used a body web.

To drive home the fact that our illnesses cannot be viewed in isolation, Ankit Pogula used a body web.

Stay connected

Sign up for our newsletter

© 2022 Conservation Wildlands Trust | Privacy Policy | Refund Policy