News

पुराने पाठ्यपुस्तक , नया जीवन : हिमांशु जोशी द्वारा कागज की लुगदी वर्कशॉप

November 11, 2013 • Posted in: News, Workshops

11-to-13th-Nov-trip2-1

इस महीने, हमारे छात्रों को अंततः उनके स्कूल पिछवाड़े और स्टोर रूम में पुराने और फटे पाठ्यपुस्तकों के बढ़ते ढेर के लिए एक हल मिल गया। भवन्स कॉलेज, मुंबई , के श्री हिमांशु जोशी और विनोद गोसावी कागज की लुगदी के विशेषज्ञ उनकी पुरानी पाठ्यपुस्तकों के साथ छात्रों को कुछ गुर दिखाने के लिए आए थे।

Students at what we'd like to call a 'Shred Fest'!

Students at what we’d like to call a ‘Shred Fest’!

उनके पाठ्यपुस्तकों को छोटे टुकड़ों में बिखेर कर हमने कागज के लुगदी की प्रक्रिया शुरू की। फिर हमने इसे अगले दो दिनों के लिए भिगो दिया और उपयोग के लिए तैयार करने को मिला लिया। अंत में, हमने इस मिश्रण को बोरे में लटका दिया ताकि पानी निकल जाए और हम अपने कागज की लुगदी पर काम शुरू कर सकें।

अंततः, एक सप्ताह के काम के बाद हम सामान बनाना शुरू करने के लिए हमारे लुगदी के साथ तैयार थे।

यहाँ पूरी प्रक्रिया की कुछ तस्वीरें हैं।

Students molding the pulp.

Students molding the pulp.

A group of girls working intently on the pulp.

A group of girls working intently on the pulp.

यहाँ तक की हमारे छात्रों ने ई-बेस की दूसरी सालगिरह पर इन कागज की लुगदी कृतियों को प्रदर्शित किया और आगंतुकों और कनिष्ठों को इन अद्भुत चीज़ों को बनाने की पद्धति के बारे में व्याख्या केंद्र में समझाया था!

The Paper Mache stall at the second anniversary fair at the E-Base.

The Paper Mache stall at the second anniversary fair at the E-Base.

Stay connected

Sign up for our newsletter

© 2019 Conservation Wildlands Trust | Privacy Policy | Refund Policy