News

‘अंटार्कटिका में आपका स्वागत है’: चांदनी छाबड़ा द्वारा वर्कशॉप

January 12, 2012 • Posted in: News, Workshops
Imitating penguins to understand their parenting methods

Imitating penguins to understand their parenting methods

दुनिया का पहला ई-बेस अंटार्कटिक में क्रांतिकारी रॉबर्ट स्वान द्वारा स्थापित किया गया था। दुनिया में एक मात्र अन्य ई-बेस पेंच, मध्य प्रदेश में भारत के बहुत ही बीच में मौजूद है।जब ई-बेस का विचार अंततः पेंच बाघ अभ्यारण्य के तुरिया गेट पर मूर्त रूप लेने लगा, इसने आसपास के गांव के सभी बच्चों के लिए अपने दरवाजे खोल दिए। ई-बेस की अवधारणा से अपरिचित, छात्र सोचते थे की क्यूँ ई-बेस अस्तित्व में है और यह वास्तव में है क्या, सबसे बढ़कर यह अंटार्कटिका में क्यूँ स्थित था।

इस वर्कशॉप के माध्यम से, चांदनी छाबड़ा ने अंटार्कटिक में दुनिया के पहले ई-बेस के साथ छात्रों को परिचित कराया और इस पिछले शेष जंगल के एक छोटे दौरे के लिए उन्हें ले गई।

Chandini showing the studnets the kind of clothes that are to be worn in the Antarctic

Chandini showing the students the kind of clothes that are to be worn in the Antarctic

An enthusiastic student getting into the spirit of being in the Antarctic

An enthusiastic student getting into the spirit of being in the Antarctic

छात्रों ने अंटार्कटिक के पशुओं द्वारा कठोर जलवायु को सहने के बारे में जाना और इस बर्फीले दूरस्थ भूमि पर कैसे ज़िन्दगी गुज़रती है, यह भी जाना।

Using ice cubes, gloves and vaseline to understand the skin of the Antarctic creatures

Using ice cubes, gloves and vaseline to understand the skin of the Antarctic creatures

with hand freezing, he's still smiling! Only proves how much fun it is to be at the E-Base

With one hand freezing, he’s still smiling! Only proves how much fun it is to be at the E-Base

Stay connected

Sign up for our newsletter

© 2021 Conservation Wildlands Trust | Privacy Policy | Refund Policy